वैभवलक्ष्मी व्रत करने का नियम

वैभवलक्ष्मी व्रत करने का नियम

1. यह व्रत सौभाग्यशाली स्त्रियाॅ करें तो उनका अति उत्तम फल मिलता है। पर घर में यदि सौभाग्यशाली स्त्रियाॅ न हो तो कोई भी स्त्री एवं कुमारिका भी यह व्रत कर सकती है।

2. स्त्री के बदले पुरूष भी यह व्रत करें तो उसे भी उत्तम फल अवश्य मिलता है।

3. यह व्रत पूरी श्रद्धा और पवित्र भाव से करना चाहिये। खिन्न होकर या बिना भाव से यह व्रत नहीं करना चाहिये।

4. यह व्रत शुक्रवार को किया जाता है। व्रत शुरू करते वक्त 11 या 21 शुक्रवार की मन्नत रखनी पड़ती है। और पुस्तक में लिखी शास्त्रीय विधि अनुसार ही व्रत न करने पर व्रत का चाहिये। मन्नत के शुक्रवार पूरे होने पर विधिपर्वूक और इस पुस्तक में दिखाई गई शास्त्रीय रीति अनुसार उद्यापन विधि करनी चाहिये। यह विधि सरल है किन्तु शास्त्रीय विधि अनुसार व्रत न करने पर व्रत कर जरा भी फल नहीं मिलता है।

5. एक बार व्रत पूरा करने के पश्चात् फिर मन्नत कर सकते हैं और फिर से व्रत कर सकते हैं।

6. माता लक्ष्मी देवी के अनेक स्वरूप है। उनमें उनका धनलक्ष्मी स्वरूप ही ‘वैभवलक्ष्मी’ है और माता लक्ष्मी को श्रीयंत्र अति प्रिय है। व्रत करते वक्त पुस्तक में दिये मां लक्ष्मीजी के हर स्वरूप को और ‘श्रीयंत्र’ को प्रणाम करना चाहिये। तभी व्रत का फल मिलता है। अगर हम इतनी भी मेहनत नहीं कर सकते है तो लक्ष्मी देवी भी हमारे लिये कुछ करने को तैयार नहीं होगी।

7. व्रत के दिन सुबह से ही ‘जय मां लक्ष्मी’ ‘जय मां लक्ष्मी’ का रटन मन ही मन करना चाहिये। और माँ का पूरे भाव से स्मरण करना चाहिये।

8. शक्रवार के दिन यदि आप प्रवास या यात्रा पर गये हांे तो वह शुक्रवार छोड़कर उनके बाद के शुक्रवार को व्रत करना चाहिये पर व्रत अपने ही घर में करना चाहिये। सब मिलाकर जितने शुक्रवार की मन्नत ली हो, उतने शुक्रवार पूरे करने चाहिये।

9. घर में सोना न हो तो चांदी की चीज पूजा में रखनी चाहिये। अगर वह भी न तो रोकड़ रूपया रखना चाहिये।

10. व्रत पूरा होने पर कम से कम सात स्त्रियों को या आपकी इच्छा अनुसार जैसे 11, 21, 51, 101 स्त्रियों को वैभवलक्ष्मी व्रत की पुस्तक कुमकुम का तिलक करके भेंट के रूप में देनी चाहिये। जितनी ज्यादा पुस्तक आप देंगे उतनी माँ लक्ष्मी की ज्यादा कृपा होगी और माँ लक्ष्मी जी का यह अद्भूत व्रत का ज्यादा प्रचार होगा।

11. व्रत के शुक्रवार को स्त्री रजस्वला हो या सूतकी हो तो वह शुक्रवार छोड़ देना चाहिये और बाद के शुक्रवार से व्रत शुरू चाहिये। पर जितने शुक्रवार की मन्न्त हो, उतने शुक्रवार पूरे करने चाहिये।

12. व्रत की विधि शुरू करते वक्त ‘लक्ष्मी स्तवन’ का एक बार पाठ करना चाहिये।

13. व्रत के दिन हो सके तो उपवास करना चाहिये और शाम को व्रत की विधि करके मां का प्रसाद लेकर शुक्रवार करना चाहिये। अगर न हो सके तो फलाहार या एक बार भोजन कर के शुक्रवार करना चाहिये। अगर व्रतधारी का शरीर बहुत कमजोर हो तो ही दो बार भोजन ले सकते है। सबसे महत्व की बात यही है कि व्रतधारी मां लक्ष्मी जी पर पूरी-पूरी श्रद्धा और भावना रखें और ‘मेरी मनोकामना मां पूरी करेगी हीं, ऐसा दृढ संकल्प करें।